Search
Close this search box.

विपक्षी गठबंधन ने मार्क जुकरबर्ग को लिखा खत, कहा- समाज में नफरत फैलाने का दोषी है फेसबुक । Mallikarjun Kharge shares INDIA parties letter to Facebook founder Mark Zuckerberg over media report

Share this post

Mallikarjun Kharge shares INDIA parties letter to Facebook founder Mark Zuckerberg over media report- India TV Hindi

Image Source : PTI
विपक्षी गठबंधन ने मार्क जुकरबर्ग को लिखा खत

नई दिल्ली: विपक्षी गठबंधन I.N.D.I.A ने फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग को एक चिट्ठी लिखा है। कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने इस चिट्ठी को सोशल मीडिया पर शेयर किया है। इस चिट्ठी में मीडिया रिपोर्ट्स का हवाला देते हुए कहा गया है कि मेटा भारत में सामाजिक असंगति को बढ़ावा देने और सांप्रदायिक नफरत को भड़काने का दोषी है। इस चिट्ठी में विपक्षी गठबंधन ने भाजपा पर भी आरोप मढ़ा है। इस खत में विपक्षी गठबंधन ने लिखा, ‘I.N.D.I.A गठबंधन की तरफ से यह खत लिखा जा रहा है। I.N.D.I.A गठबंधन जो कि 28 राजनीतिक दलों का गठबंधन है, जो संयुक्त विपक्षी गठबंधन का प्रतिनिधित्व करता है। हम 11 राज्यों में सत्तारूढ गठबंधन हैं और सभी भारतीय मतदाताओं की लगभग आधी आबादी का प्रतिनिधित्व करते हैं।’

विपक्षी गठबंधन ने फेसबुक को लिखा खत

इस खत में लिखा गया कि आप वॉशिंगटन पोस्ट अखबार द्वारा हाल ही में प्रकाशित उस लेख से वाकिफ होंगे जिसमें भाजपा द्वारा फैलाए जा रहे सांप्रदायिक घृणा अभियान में व्हाट्सऐप और फेसबुक की भूमिका का खुलासा किया गया है। खासकर लेख में यह विवरण दिया गया है कि भाजपा सदस्यों और समर्थकों द्वारा कैसे व्हाट्सऐप समूहों का उपयोग कर घृणित, सांप्रदायिक और विभाजनकारी प्रचार किया जा रहा है। वहीं एक अन्य लेख जिसका शीर्षक है, ‘Under India’s pressure, Facebook let propaganda and hate speech thrive’ में फेसबुक इंडिया के अधिकारियों द्वारा सत्ताधारी सरकार के प्रति जबरदस्त पक्षपात को साक्ष्य के साथ प्रकाशित किया गया है। 

‘समाज में भाजपा फैला रही नफरत’

विपक्षी गठबंधन ने खत में लिखा, ‘यह बात विपक्षी गठबंधन को काफी पहले से पता है और इस बारे में कई बार आवाज भी उठाई जा चुकी है। वॉशिंगटन पोस्ट की इन विस्तृत जांचों से यह साफ है कि मेटा भारत में सामाजिक वैमनस्य को बढ़ावा देने और सांप्रदायिक नफरत भड़काने का दोषी है। इसके अलावा, हमारे पास डेटा है जो सत्तारूढ पार्टी की सामग्री को बढ़ावा देने के साथ-साथ आपके मंच पर विपक्षी नेताओं के कंटेंट को एल्गोरिदम के माध्यम से छेड़छाड़ करता है। एक प्राइवेट विदेशी कंपनी का एक राजनीतिक पार्टी के प्रति इस तरह का पक्षपात और पूर्वाग्रह भारत के लोकतंत्र में हस्तक्षेप करने के समान है, जिसे हम I.N.D.I.A गठबंधन हल्के में नहीं लेंगे।’

Latest India News

Source link

Daily Jagran
Author: Daily Jagran

Leave a Comment

ख़ास ख़बरें

ताजातरीन