Search
Close this search box.

सवाल के बदले रिश्वत मामला, सांसद महुआ मोइत्रा को पूछताछ के लिए इस दिन बुलाएगी एथिक्स कमेटी । lok sabha ethics committee said mahua moitra to appear on 31 october in cash for query scandal

Share this post

सांसद महुआ मोइत्रा और निशिकांत दुबे।- India TV Hindi

Image Source : PTI
सांसद महुआ मोइत्रा और निशिकांत दुबे।

संसद में सवाल पूछने के बदले रिश्वत लेने के मामले में तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा की मुश्किलें बढ़ती चली जा रही हैं। सांसद निशिकांत दुबे की ओर से की गई शिकायत के बाद इस मामले में गुरुवार को लोकसभा की एथिक्स कमिटी की पहली बैठक हुई। इस बैठक में शिकायतकर्ता निशिकांत दुबे और वकील जय अनंत देहाद्रई के बयान दर्ज करवाए गए हैं। वहीं, बैठक में महुआ मोइत्रा को भी समन भेजने की तारीख का फैसला किया गया है। 

बैठक में क्या हुआ?


महुआ मोइत्रा मामले में लोकसभा की एथिक्स कमेटी की बैठक के बाद कमेटी के अध्यक्ष विनोद सोनकर ने बताया कि उन दोनों लोगों जिन्हें आज बुलाया गया था यानी की वकील जय अनंत और निशिकांत दुबे के बयानों को सुना गया। विनोद सोनकर ने बताया कि  वकील जय अनंत और निशिकांत दुबे के द्वारा पेश किए गए साक्ष्यों पर भी गौर किया गया। 

इस तारीख का समन

लोकसभा की एथिक्स कमेटी की पहली बैठक के बाद विनोद सोनकर ने बताया कि इस मामले की गंभीरता को देखते हुए समिति ने महुआ मोइत्रा को बुलाने का फैसला किया है। सांसद महुआ मोइत्रा को 31 अक्टूबर को पेश होने के लिए कहा गया है। वहीं, दूसरी समिति ने दर्शन हीरानंदानी, महुआ मोइत्रा और वकील जय अनंत देहाद्राई के बीच हुई बातचीत के विवरण के लिए आईटी मंत्रालय और MHA को पत्र भेजने का भी फैसला किया है।

क्या है पूरा मामला?

भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा पर अडानी समूह तथा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधने के लिए रिश्वत के लेनदेन का आरोप लगाया है। निशिकांत दुबे का कहना है कि वकील देहाद्रई ने मोइत्रा और कारोबारी दर्शन हीरानंदानी के बीच अडानी समूह तथा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधने के लिए रिश्वत के लेनदेन के ऐसे साक्ष्य साझा किये हैं जिन्हें खारिज नहीं किया जा सकता। महुआ मोइत्रा इन आरोपों को पूरी तरह खारिज किया है तो वहीं, कारोबारी दर्शन हीरानंदानी ने इन आरोपों को स्वीकार कर लिया है। 

ये भी पढ़ें- कांग्रेस से चुनाव लड़ने के लिए SDM ने दिया नौकरी से इस्तीफा, लेकिन पार्टी ने अभी तक टिकट ही नहीं दिया

ये भी पढ़ें- ‘मायावती को I.N.D.I.A में शामिल किए बिना यूपी में BJP को नहीं हरा सकते’, आचार्य प्रमोद कृष्णम का बड़ा बयान

 

Latest India News

Source link

Daily Jagran
Author: Daily Jagran

Leave a Comment

ख़ास ख़बरें

ताजातरीन